Menu
 
 
 

हिम शिखरों के मध्य बसा छोटा सा कुल है अपना
प्रकृति के पावन आँचल में अंगड़ाई लेता इक सपना
जहाँ ज्ञान वृक्ष की छाया में होता अंतर्ज्ञान है
उस पुण्यभूमि का नाम डी आई टी संस्थान है

सरस्वती माँ का वंदन जहाँ नित होता आया है
जिसके छात्रों ने समाजहित हेतु संकल्प उठाया है
देश हित कुछ करने का सपना भरता जहाँ उड़ान है
उस कर्मभूमि का नाम डी आई टी संस्थान है

गुरु शिष्य की परम्परा को जहाँ निभाया जाता है
हर जातिधर्म के भेदभाव को जहाँ भुलाया जाता है
जिस कुल के प्रत्येक निवासी को मिलता उचित सम्मान है
उस धर्मभूमि का नाम डी आई टी संस्थान है

वसुधैव कुटुंबकम का मूल मंत्र जहाँ सिखाया जाता है
कर्तव्यों और मानव मूल्यों का पाठ पढ़ाया जाता है
सर्वे भवन्तु सुखिनः जहाँ होता गुंजायमान है
उस ज्ञानभूमि का नाम डी आई टी संस्थान है

विश्व स्तर पर उच्च शिक्षा का परचम लहराएँगे
अनुसंधानों के बल पर स्वर्णिम भविष्य ले आएँगे
जो वैश्विक स्तर पर श्रेष्ठ गुणवत्ता का देता सदा प्रमाण है
उस अध्ययनभूमि का नाम डी आई टी संस्थान है

Feedback